About_photo

पंडित मुकेश भारद्वाज

ज्योतिष् गुरु

"पंडित मुकेश भारद्वाज" भारतीय वैदिक ज्योतिष शास्त्र और भारतीय वैदिक वास्तुशास्त्र के विश्व विख्यात विद्वान हैं | ज्योतिष और वास्तु के क्षेत्र में इनको राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेकों पुरस्कार और सम्मान मिलते रहे हैं | भारतीय आध्यात्म, ज्योतिष और वास्तु को इन्होंने अंतर्राष्ट्रीय ऊंचाइयों तक पहुँचाने में बहुमूल्य योगदान दिया है | भारतीय वैदिक ज्योतिष की सभी विद्याओं रत्न शास्त्र, शारीर अंग लक्षण, सामुद्र शास्त्र, अंक शास्त्र, हस्तरेखा ज्ञान आदि सभी ज्योतिषीय के आलावा टैरो कार्ड रीडिंग, फंगशुई आदि पर किए गए इनके शोध बेहद अनुकरणीय हैं|

पण्डित मुकेश भारद्वाज का जन्म राजस्थान के एक आध्यात्मिक परिवार में हुआ। इनके पिता श्री उमाशंकर गौड़ गायत्री उपासक हैं। साथ ही माता श्रीमति प्रेमलता गौड़ देवी उपासक हैं। इनका पालन पोषण विशिष्ट गौरवपूर्ण माहौल में हुआ है। इनके नानाजी पण्डित जुगल किशोर शर्मा देश के प्रख्यात ज्योतिषी थे। इस तरह पारिवारिक माहौल और वंशानुगत रूप से इनको ज्योतिष की परम्पराओं और आध्यात्मिक जीवन का ज्ञान मिला।

पं. मुकेश भारद्वाज को ज्योतिष के साथ हस्तरेखा, अंकशास्त्र, सामुद्र शास्त्र - अंग लक्षण, वास्तुशास्त्र, रत्न विज्ञान, मंत्र चिकित्सा आदि सभी विधाओं में समान रूप से महारत हासिल है। यही वह विशेषता है जिसके कारण उनके ज्ञान से लाभान्वित होने वालों की सूचि बड़ी लम्बी है। पण्डित मुकेश भारद्वाज ने अपने ज्योतिषीय सफर में हर वर्ग के लोगों को अपने ज्योतिषीय अनुभवों से लाभान्वित किया है। फिर वो भले ही भारतीय राजनेताओं का स्थपित वर्ग हो या इस दिशा के प्रयासरत नव युवा हों; सिनेमा व कला जगत से जुड़ी बड़ी हस्तियाँ हों या फिर खेल जगत से जुड़ी बड़ी हस्तियाँ; व्यवसायी वर्ग हो या नवयुवा वर्ग; विद्यार्थी वर्ग हो या फिर मीडिया से जुड़ी स्थापित हस्तियां । पं. मुकेश भारद्वाज ने नितान्त अभावों में जी रहे लोगों के जीवन को भी निस्वार्थ रूप से ज्योतिषीय गणनाओं से लाभान्वित कर उनकी निश्छल शुभकामनाएं ली हंै।

पं. मुकेश भारद्वाज की ज्योतिषीय शैली की अपनी विशेषताएं हैं। वे अपनी ज्योतिषीय गणनाओं में वैज्ञानिक पक्ष को बेहद महत्व देते हैं। साथ ही साथ ईश्वरीय सत्ता के साथ बेहतर तालमेल बनाए रखने की सलाह विशेष रूप से देते हैं। उनकी नजर में ज्योतिष सिर्फ भविष्य बताने का माघ्यम नहीं है, बल्कि ज्योतिष की मदद से अपने व्यक्तित्व की अच्छी व बुरी बातों को जानकर कैसे अपने व्यक्तित्व में सुधार करके बेहतर जीवनशैली विकसित करने की जा सकती है, यह सलाह विशेष रूप से शामिल होती है।

1. पं. मुकेश भारद्वाज ने 2007 में भारतीय राष्ट्रपति पद के उम्मीद्वार के तौर पर माननीय उप राष्ट्रपति महोदय श्री भैंरोसिंह शेखावत को उनके आवास पर व्यक्तिगत मुलाकात के दौरान उनकी हार से संबंधित बेबाक भविष्यवाणी कर चौंका दिया था। जबकि उनकी प्रतिद्वन्द्वी राजस्थान राज्य की माननीय राज्यपाल श्रीमति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल को निश्चय ही राष्ट्रपति पद मिलने की भविष्यवाणी की थी। चुनावों के परिणाम शतप्रतिशत भविष्यवाणी के अनुरूप रहे थे। 

2. राजस्थान विधानसभा के 2008 के चुनावों में जब चारों ओर वसुन्धरा राजे के नैतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की वापसी के कयास लगाए जा रहे थे; तब पं. मुकेश भारद्वाज ने राजस्थान के प्रतिष्ठित चैनल “VOICE OF INDIA  पर कांग्रेस पार्टी के शासन में आने की घोषणा की थी। अन्ततः चुनावों में कांग्रेस को भारी बहुमत के साथ राजस्थान में विजय हासिल हुई। चुनाव के इन नतीजों पर खुद कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारी भी अचंभित थे और भाजपा के पदाधिकारी भी। 

3. 2012 में राज्यों के विधानसभा चुनावों के नतीजों से ठीक पहले राजस्थान के प्रतिष्ठित चैनल “HBC  पर चुनाव के ज्योतिषीय विश्लेषक के तौर पर जब पं. मुकेश भारद्वाज को बुलाया गया तब उन्होंने सभी राज्यों के चुनावी नतीजों के संबंध में अपनी भविष्यवाणियाँ की थीं। ये सभी भविष्यवाणियाँ अगले कुछ घण्टों में सच साबित होती चली गईं। 

 

 ये  चुनाव कांग्रेस की ओर से श्री राहुल गांधी के नैतृत्व में लड़े जा रहे थे। उस समय कांग्रेस के युवराज के तौर पर राहुल गांधी से और प्रिंयका गांधी से सभी ने बहुत बड़ी उम्मीदें लगा रखी थीं। तब पं. मुकेश भारद्वाज ने बड़ी ही बेबाकी से घोषणा की थी कि उत्तरप्रदेश में राहुल गांधी बनाम अखिलेश यादव की जंग में राहुल गांधी का प्रदर्शन अखिलेश यादव के मुकाबले मात्र चैथाया रहेगा। और राहुल गांधी उत्तरप्रदेश में पूरी तरह विफल रहेंगे। क्योंकि पण्डित मुकेश भारद्वाज की ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर चुनावों का समय राहुल गांधी के लिए सही नहीं था।
इस चुनाव विश्लेषण में पं. मुकेश भारद्वाज ने यह भी भविष्यवाणी की थी कि उत्तरप्रदेश के चुनावी नतीजों में पहले नम्बर पर समाजवादी पार्टी रहेगी; और शेष पार्टियां क्रमशः बसपा, भाजपा और अन्त में कांग्रेस रहेगी। और चुनाव नतीजों में यह शतप्रतिशत सही साबित भी हुआ। 

4. इन्हीं विधानसभा चुनावों के लिए गोवा में मनोहर पर्नीकर की फिर से सत्त में वापसी की घोषणा की गई थी। यह राजनैतिक भविष्यफल भी शतप्रतिशत सही साबित हुआ।

5. उत्तराखण्ड में 2012 के विधानसभा चुनावों में श्री खण्डूरी की हार की ज्योतिषीय घोषणा को भी चुनाव नतीजों ने सही साबित किया।

 6. विधानसभा चुनाव 2012 के पंजाब राज्य से संबंधित राजनैतिक भविष्यफल में पं. मुकेश भारद्वाज ने स्पष्ट घोषणा की थी कि मनप्रीत सिंह के चुनावी मैदान में आने से वहां सत्ता परिवर्तन नहीं होगा। और यह भविष्यवाणी भी बिलकुल सही साबित हुई। 

इस प्रकार चुनाव विश्लेषक के तौर पर पं. मुकेश भारद्वाज की राजनैतिक भविष्यवाणियाँ बहुत सही सिद्ध हुई हैं। यही कारण है कि देश के कई मुख्यमंत्री इनसे ज्योतिषीय व वास्तु संबंधी सलाह लेते हैं।

प्रमुख सम्मानः-
पं. मुकेश भारद्वाज को विभिन्न संस्थाएं समय समय पर उनके ज्योतिषीय कार्यों के लिए सम्मानित करती रही हैं। विभिन्न संस्थाएं उनकी कार्यशालाओं का आयोजन भी करती रही हैं जिसमें युवा वर्ग का विशेष भागीदारी रहती है।

ब्राह्मण शिरोमणि 2005
राजस्थान गौरव 2006
ब्राह्मण रत्न 2008 अखिल भारतीय ब्राह्मण पंचायत सम्मान पत्र
राष्ट्रीय ब्राह्मण शिरोमणि 2011 

हमसे सम्पर्क करें

195 A. K. Gopalan nagar, Khatipura, Near Lal Mandir JAIPUR, Rajasthan, India

Phone Number:0141 235 88 29 Mobile- +91 94140 49391

E-Mail:panditmukeshbhardwaj@gmail.com, admin@astrostarindia.com

Post Box No. 302012

Your Name (required)

Your Email (required)

Subject

Your Message